Sunday, June 6, 2010

...अब आ गई सिगरेट छुड़ाने वाली मशीन


काफी जद्दोजहद के बाद भी अगर आप सिगरेट छोड़ने में नाकाम रहे हैं तो घबड़ाने की कोई बात नहीं, क्योंकि दिल्ली के दो सरकारी अस्पतालों और इनके तंबाकू से निजात दिलाने वाली क्लिनिकों में कंपनयुक्त एक्यूप्रेशर तकनीकी की जल्द ही शुरुआत हो सकती है।
जर्मन निर्मित बायो-रेसोरेंस [कंपन चिकित्सा] उपकरण, शरीर के अंदर के विद्युतीय तरंगों के साथ मिल कर आपमें निकोटीन लेने की च्च्छा को कम करता है।
राज्य सरकार द्वारा संचालित इंस्टिट्यूट ऑफ ह्यूमन बिहैवियर एंड अलाइड साइंस के निदेशक डाक्टर नीमेश देसाई ने बताया कि बायो रेसोरेंस यंत्र पहली सिगरेट पीने के बाद आपमें अगली सिगरेट पीने कीच्इच्छा को समाप्त कर देता है। सिगरेट छुड़ाने का यह उपचार न तो नुकसानदायक है और न ही पीड़ादायक है। इस चिकित्सा पद्धति में किसी प्रकार की कोई दवा भी नहीं लेनी पड़ती।
सिगरेट पीने कीच्इच्छा रखने का केवल मानसिक संबंध नहीं है, बल्कि इसके पीछे कुछ जैविक कारण भी हैं।
देसाई ने बताया कि आप के हाथ में बोयो रसोरेंस यंत्र जब कंपन करता है तो उसका असर आपके तंत्रिका आवेगों पर पड़ता है जिसके परिणामस्वरूप आपमें सिगरेट पीने कच् इच्छा कम हो जाती है।

5 comments:

Dr Parveen said...

खबर अच्छी है लेकिन पहले इस की पूरी खबर लेनी होगी।

Udan Tashtari said...

अच्छी खबर है.

महफूज़ अली said...

बहुत अच्छी जानकारी..... अच्छा हुआ हम सिगरेट नहीं पीते.....

अविनाश वाचस्पति said...

और बन रही है ब्‍लॉगिंग छुड़ाने वाली मशीन।

Udan Tashtari said...

इस समाचार को आधार बना कर मैने आपके आलेख से कुछ पंक्तियाँ नीचे दिये लिंक पर ली हैं. आशा करता हूँ आपको आपत्ति नहीं होगी अन्यथा कृपया सूचित करें मैं वो हिस्सा अलग कर दूँगा. पूर्वानुमति न लेने के लिए क्षमाप्रार्थी.

http://udantashtari.blogspot.com/2010/06/blog-post_07.html